Sesame Seeds in Hindi | सफेद तिल के बीज और तेल खाने के फायदे

Sesame Seeds in Hindi

आज हम बात करेंगे (Sesame seeds in Hindi) सफ़ेद तिल के बीजों के बारे में. तिल के बीज हमारे स्वास्थ्य के लिए बहुत लाभदायक होते हैं. तिल एक ऐसी फसल है जिसको दुनिया के कई हिस्सों में उगाया जाता है. तिल की खेती भारत में हजारों वर्षों से होती आ रही है.

seasme seeds in hindi

तो यहाँ पर हम बात करेंगे तिल के बारे में, तिल का पौधा तिल के बीज व तिल के तेल की पूरी जानकारी आपको यहाँ मिलेगी. इसके साथ साथ तिल के फायदे क्या क्या हैं यह आप जानेंगे.

Sesame seeds meaning in Hindi

Sesame meaning in Hindi , sesame का हिंदी में मतलब तिल होता है और इसकी खेती तिलहन की खेती कहलाती है . तिल का वैज्ञानिक नाम – sesamum orientale है.

इस आर्टिकल में हम तिल के पौधे के बारे में भी बात करेंगे लेकिन सबसे पहले हम तिल के फायदे क्या हैं यह समझ लेते हैं . sesame seeds in hindi इसमें भरपूर मात्रा में कैल्सियम, मैग्नीशियम व कुछ अन्य पोषक तत्व पाए जाते है. इसलिए यह बहुत फायदेमंद होते हैं .

सफ़ेद तिल खाने के फायदे

Sesame seeds में अनेकों पोषक तत्व पाय जाते हैं इसलिए इसके कई फायदे हैं. तरह तरह की रेसिपी में तिल के बीज का इस्तेमाल किया जाता है. यह बहुत स्वादिष्ट होते हैं.

तिल के बीज खाने में स्वादिष्ट होने के साथ साथ बहुत फायदेमंद भी हैं लेकिन यहाँ हम कुछ खास तरह के फायदों का ही विवरण करेंगे .

हड्डियों व दांतों के लिए फायदेमंद

तिल के बीजों में भरपूर कैल्सियम मौजूद होता है, जो हमारी हड्डियों से सम्बंधित रोगों को दूर करता है. और हमारे शरीर की हड्डियों को मजबूत भी बनता है. तिल के सेवन करने से हमारी हड्डियों के साथ साथ यह हमारे दांतों को भी मजबूत व रोग रहित बनाता है.

हाई ब्लड प्रेसर कंट्रोल

तिल में मैग्नीशियम की मात्रा भी होती है और यह अगर किसी बजह से हमारे शरीर का ब्लड प्रेसर असामान्य हो जाता है तो sesame seeds in Hindi यानि तिल के बीज ब्लड प्रेसर को नार्मल करने में काफी मदद करते हैं यह हाई ब्लड प्रेसर को नार्मल करने के काम आते है .

पाचन क्रिया में सहायक

तिल के बीज भूनकर गुड मे मिलकर खाने से हमारे पेट की पाचन क्रिया भी सही रहती है . तिल के बीजों में फाईवर भी होता है जो पेट की पाचन क्रिया को सही रखने में मदद करता है . तिल में मौजूद तिल का तेल पेट की आँतों में चिकनाहट रखता है . जो पेट के लिए बहुत लाभदायक है . इसके आलावा इसके और भी बहुत सारे फायदे है .

तिल के लड्डू

जैसे ही सर्दियाँ आना शुरू होती हैं तो तिलों के लड्डुओं की याद आने लगती हैं . आपने ज़रूर कभी न कभी तिल के लड्डू खाए होंगे. इनको घर पर कुछ इस प्रकार बनाया जाता है- सबसे पहले इसमें चीनी या गुड़ जो भी आपको पसंद हो एक चीज लेंगे और इसको कढाई में डालकर चासनी बना लेंगे उसके बाद इसमें आवयश्कतानुसार सूजी, मूंगफली के दाने और तिल को भूनकर डाल देंगे लेकिन कुछ लोग इसमें बाजरा का आटा भी थोडा सा मिला लेते है इसे भी भूनकर ही डालते हैं . और इस मिश्रण को आपस में अच्छी तरह मिलकर लड्डू बना लेते हैं . जो तिल के लड्डू कहलाते हैं .

तिल के लड्डू की तासीर बहुत गर्म होती है इसलिए इसको दिन में एक या 2 ही खाएं , वर्ना हो सकता है के आपका पेट भी खराब हो जाये या फिर शरीर में कुछ देर के लिए खुजली भी हो सकती है .

तिल के लड्डू सर्दी के मौसम में ही खाए जाते हैं तो इसलिए इनका कोई ख़ास नुकसान तो नही होता लेकिन यह फायदेमंद बहुत होता है . फायदेमंद के साथ साथ तिल के लड्डू स्वादिष्ट भी बहुत होते हैं . इसी प्रकार तिल से और भी बहुत सारी खाने की चीजे बनती हैं जैसे – तिल की रेवड़ी, गजक आदि जो सर्दी के मौसम में बहुत खाने में बहुत मजा देती हैं .

तिल का पौधा

तिल का पौधा हरे रंग का होता है, इसकी लम्बाई लगभग 1 मीटर होती है. भारत के कई हिस्सों में किसान तिलों को खेती के रूप में पैदा करते है. जिस से किसानो को काफी मुनाफा होता है.

इसकी खेती में ज्यादा मेहनत नहीं करना पड़ती है. तिल की खेती लगभग 3 महीने में पूरी तरह पक कर तैयार हो जाती है . तिल के पौधे पे सफ़ेद रंग के फूल आते है . इसके बाद इस पौधे पर छोटी छोटी फलियाँ आने लगती हैं.

Sesame seed के पौधे पर सफ़ेद रंग के बड़े ही खुबसूरत फूल आते हैं और इसका तना, पत्ती व फली हरे रंग की होती है. और फली के अन्दर जो बीज होते हैं वो भी प्रायः सफ़ेद रंग के होते है . लेकिन जैसे जैसे तिल की फसल पकती जाती है पौधे का रंग बदलता जाता है . लेकिन sesame seeds का रंग सफ़ेद ही रहता है.

वैसे तो तिल के बीजों का रंग काला , भूरा आदि लेकिन खास तौर पे सफ़ेद ही होता है . जब फसल पूरी तरह पक जाती है तो इनकी फली धूप में सूख कर स्वतः चटक कर फट जाती हैं और इनको हिलाने पर तिल के बीज अपने आप बाहर निकल आते हैं . और फिर इन्हें बाद में धुप में सुखा लिया जाता है . सूखने के बाद यह लम्बे समय के लिए स्टोर होने के लिए तैयार हैं .

तिल खाने का तरीका

(Sesame seeds in Hindi) तिल खाने में बहुत ही स्वादिष्ट होते हैं . इसलिए इनको कई तरह के पकवानों में भी शामिल किया जाता है . जिससे पकवान का स्वाद भी अच्छा हो जाता है . तो अब हम यहाँ जानेंगे के तिलों को किस प्रकार खाने में लाया जाता है .

Sesame oil in hindi

Sesame oil in hindi तिल का तेल खाने के मामले में बहुत ही फायदेमंद है . वर्षों से लोग इसे जिस तरह सरसों के तेल का इस्तेमाल खाना बनाने में करते है उसी तरह कुछ लोग तिल के तेल का भी इस्तेमाल खाना बनाने में करते हैं . तिल का तेल खाने के साथ साथ शरीर पे मालिश करने के काम भी आता है .

Sesame oil in hindi तिल के तेल में पॉलीअनुसैचुरेटेड फैट और बहुत सारे विटामिन्स व कुछ प्रोटीन्स भी होता है . जिस से यह बहुत लाभकारी होता है . इसको आयुर्वेद में भी इस्तेमाल किया जाता है .

तिल के तेल से मालिश करने के फायदे

sesame oil in hindi तिल के तेल से शरीर पे मालिश करने के बहुत फायदे है . इस तेल में कई पोषक तत्व और विटामिन्स होते हैं जो त्वचा को चमकीला और टाइट बनाये रखते हैं.

इस तेल में कैल्सियम भी होता है . जिसकी वजह से मालिश करने पर हमारी हड्डियाँ वा मांसपेशियाँ मजबूत होती है . और इनमे दर्द भी नहीं होता है . शरीर में कभी थकान या सुस्ती भी नहीं होती है . हमेशा फुर्ती रहती है और शरीर थोडा हल्का महसूस करता है .

तिल का तेल बालों में लगाने के फायदे

sesame oil in hindi तिल का तेल खाया भी जाता है, मालिश के काम भी आता है और यह कई आयुर्वेद दवाओं में भी इस्तेमाल होता है . और इसके साथ साथ हम आपको बता दे के तिल का तेल हमारे बालों के लिए भी बहुत लाभदायक होता है.

बालों का समय से पहले सफ़ेद होना , बालों का टूटना या छडना और इसके अलावा बालों का दुखना या सर में दर्द होना. इन्ही सभी रोगों से निबटने की शक्ति रखता है यह तिल का तेल.

तिल के तेल को हाथों में लेकर बालों की जड़ों में लगाकर सर की मालिश करे . और कुछ घंटो के बाद बालों को शैम्पू से धो ले . ऐसा करने से आपको लाभ मिलेगा.

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ