Nasha Mukti par Nibandh : नशा मुक्ति पर निबंध लिखिए

nasha mukti par nibandh

Nasha Mukti par Nibandh

Nasha mukti par nibandh में आज हम आपके लिए यहाँ नशा मुक्ति पर निबंध छोटे व बड़े दोनों प्रकार के निबंध सरल भाषा में लिखने जा रहे हैं । नशा मुक्ति एक बहुत महत्वपूर्ण विषय है जिसके तहत नशे की लत से लोगों को बाहर निकालने का काम किया जाता है । जिससे नशा करने बाले लोगों को एक नया जीवन मिलता है । तो नशा मुक्ति पर निबंध में सबसे पहले एक बड़ा निबंध दिया गया है, यह 1000 शब्दों में है ।

नशा मुक्ति पर निबंध 1000 शब्दों में

प्रस्तावना :- Nasha mukti par nibandh – नशा मुक्ति का मतलब होता है हर प्रकार के नशे से मुक्त होना यानि नशे की लत से मुक्ति पाना । आजकल लोग विभिन्न प्रकार के नशीले पदार्थों का सेवन करने लगे हैं । नशीले पदार्थों का सेवन धीरे धीरे उन्हें एक नशीली लत की तरफ ले जाता है फिर इस नशे की लत से बाहर निकलना बहुत मुश्किल हो जाता है ।

नशा मुक्ति एक महत्वपूर्ण और जरुरी कदम है जो हमें एक स्वस्थ, सकारात्मक और समृद्धि भरे जीवन की दिशा में बढ़ने में मदद कर सकता है। नशा आजकल के समय में एक गंभीर समस्या बन चुका है जिससे हर तरह के लोग प्रभावित हो रहे हैं, फिर चाहे वह स्त्री और पुरुष युवा हों या बुजुर्ग ।

नशा करने के कारण

नशे का सबसे मुख्य कारण लोगों का मानसिक तनाव और दुःख होता है । आधुनिक जीवनशैली में हम सभी तेजी से बदलते माहौल, तनाव और असमंजस्य का सामना कर रहे हैं, जिससे कई लोग नशा अपनाने का रास्ता चुन रहे हैं। इसके अलावा युवा पीढ़ी में भी आजकल नशीले पदार्थ का सेवन करने का शौक हो गया है । शादी, पार्टी आदि में कुछ जगह शराब आदि का चलन बढता जा रहा है जो लोगों को नशे की लत की तरफ ले जाता है ।

इसके अलावा बहुत से ऐसे तम्बाकू युक्त पदार्थ ऐसे हैं जैसे- बीडी, गुटखा, भांग, चरस, गांजा आदि जो सभी जगह बड़े आसानी से उपलब्ध होते हैं । गुटखा और बीडी जैसे पदार्थ सस्ते भी होते हैं जिन्हें हर व्यक्ति आसानी से खरीद लेता है ।

नशे से होने बाले नुकसान

नशा एक हानिकारक प्रभाव छोड़ता है जो बहुत गंभीर होता है । नशा करने से क्यक्ति के जीवन में बहुत सारे नुकसान होते हैं जिन्हें निम्नलखित बिन्दुओं द्वारा देखा जा सकता है –

  1. नशा करने से कैंसर का खतरा बढ़ जाता है ।
  2. शराब के सेवन से किडनी, लीवर आदि में बहुत नुकसान हो सकता है ।
  3. नशा, मानसिक और शारीरिक शक्ति को कम करता है ।
  4. शरीर कमजोर होने लगता है ।
  5. नशा करने के बाद मानसिक संतुलन ख़राब हो जाता है ।
  6. नशा करने बाला व्यक्ति अपनी जिम्मेदारियों से भागता है ।
  7. समाज में नशा करने वाले का कोई सम्मान नहीं होता है ।
  8. नशा करने वाले का भविष्य अंधकार में होता है ।
  9. नशे का शिक्षा पर बहुत बुरा असर पड़ता है ।
  10. नशा इन्सान को बर्वाद कर देता है ।

नशा करने के फायदे

हर चीज के दो पहलू होते हैं- एक फायदा तो दूसरा नुकसान । लेकिन “नशे की लत” यह एक व्यवहार है जिसका कहीं से लेकर कहीं तक थोडा बहुत भी फायदा नहीं है । हालाँकि नशा करने वाला व्यक्ति यह सोच कर नशा करता है कि उसका टेंशन ख़त्म हो जायेगा या शरीर में फुर्ती आएगी लेकिन यह सब गलत धारणा है । नशे से सिर्फ नुकसान ही नुक्सान है कोई इसके फायदे नहीं हैं ।

नशा मुक्ति के लिए कदम

Nasha mukti par nibandh में हम नशा मुक्ति के लिए कुछ अहम् कदम उठा सकते हैं । अब बात आती है कि नशा करने के सिर्फ नुकसान ही नुकसान हैं तो इसे छोड़ देना ही बेहतर होता है । लेकिन एक बार जब कोई कोई व्यक्ति नशे की लत में पड़ जाता है तो उसके लिए नशा छोड़ना इतना आसान नहीं होता है । इसलिए नशा छोड़ना या छुडवाने के लिए नशा मुक्ति केंद्र और अभियान बनाये गए हैं । इसने तहत नशा करने वाले लोगों को नशा मुक्त जीवन जीने के लिए प्रोत्साहित किया जाता है ।

आज भारत में कई जगह ऐसी हैं जो बिलकुल नशा मुक्त हो चुकी हैं । वहां पर किसी भी तरह के मादक पदार्थ का सेवन नहीं करते हैं और अपना जीवन ख़ुशी ख़ुशी बिताते हैं ।

नशा मुक्ति के उपाय

नशा मुक्ति के लिए व्यक्ति को अपने आत्मसमर्पण और इच्छा के साथ काम करना होता है। इसमें विशेषज्ञ लोगों की सहायता और परिवार के लोगों का समर्थन बहुत महत्वपूर्ण होता है। सबसे पहले, व्यक्ति को अपनी समस्या को स्वीकार करना होता है और नशा मुक्ति के लिए तैयार होना होता है ।

जब तक नशा करने वाला व्यक्ति स्यंव नशा छोड़ने के लिए तैयार नहीं होता तब तक उसके लिए नशा मुक्ति एक बड़ी समस्या बनी रहती है । सबसे पहले ऐसे लोगों को नशा मुक्ति के लिए जागरूक किया जाना चाहिए ।

सोशल मीडिया पर नशा मुक्ति के विज्ञापन और नशे के खिलाफ जागरूकता फैलाना भी नशा मुक्ति के उपाय में से एक हो सकता है । क्यूंकि आजकल नशा छोड़ने के लिए लोग विभिन्न प्रकार के उपाय इंटरनेट पर सर्च करते रहते हैं ।

कुछ औषधि भी उपलब्ध हैं जो चिकित्सक की देखरेख में ली जा सकती हैं जो नशा छोड़ने में कारागार होती हैं । अगर नशा छोड़ना ही है तो यह बहुत आसान है बस एक बार आप नशा मुक्ति की ठान लो ।

15 अगस्त 2020 को भारत सरकार ने नशा मुक्ति के लिए एक अभियान की शुरुआत की, जिसमें सरकार ने नशा मुक्ति के लिए कुछ नियम, योजनाएं और कार्यक्रम शुरू किए, जो निम्नलिखित हैं-

  • नशीले पदार्थों के व्यापार पर रोक लगाना ।
  • नशा मुक्ति के लिए जागरूकता कार्यक्रम शुरू करना ।
  • नशा मुक्ति साथी केंद्रों की स्थापना करना ।
  • नशामुक्त जीवनशैली को प्रोत्साहित करना ।
  • नशा मुक्ति के लिए शिक्षा कार्यक्रम शुरू करना ।
  • नशा उपचार सुविधाओं का प्रदान करना ।
  • मादक पदार्थों के प्रति जागरूकता कार्यक्रम (आदि) ।

नशा मुक्ति का महत्व

नशा मुक्ति, नशा करने वाले व्यक्ति के जीवन में बहुत महत्व रखता है इससे व्यक्ति न केवल अपने लिए, बल्कि अपने परिवार और समाज के लिए भी उपयोगी होता है। एक नशा मुक्त जीवन व्यक्ति को समाज में दुवार से सम्मान मिलता है और व्यक्ति अपने स्वास्थ्य के प्रति सहज महसूस करता है । अपने और अपने परिवार की सही ढंग से देखभाल कर सकता है ।

उपसंहार

Nasha mukti par nibandh में आखिर में कहना चाहूँगा कि इस प्रकार, नशा मुक्ति एक महत्वपूर्ण और लाभकारी प्रक्रिया है जो हमें एक स्वस्थ, सकारात्मक और समृद्धि भरे जीवन की दिशा में आगे बढ़ने में मदद कर सकती है। नशा मुक्ति का सफलतापूर्ण मार्ग सही मार्गदर्शन, सही समर्थन, और आत्म-समर्पण के साथ ही संभव है। इससे हम अच्छे स्वास्थ्य, सशक्त परिवार, और समृद्धि भरा समाज बना सकते हैं।

नशा मुक्ति पर निबंध 100 शब्दों में

Nasha mukti par nibandh, किसी भी प्रकार का नशा करने की आदत को छोड़ना नशा मुक्ति कहलाता है । नशा करने वाले लोग अपनी सेहत तो ख़राब करते ही हैं साथ में वो अपने परिवार के लिए भी समस्याएं पैदा करते हैं । इसलिए नशामुक्ति एक ऐसी प्रक्रिया है जिसके तहत लोग अपने नशे की लत या आदत को छोड़ देते हैं । और उन्हें एक नया खुशहाल जीवन जीने का मौका मिलता है । कई जगह नशा मुक्ति केंद्र भी खुले हुए है जहाँ पर नशा करने वाले लोग रह कर नशे से मुक्ति पा सकते हैं । नशा मुक्ति केंद्र में यह लोग विशेषज्ञ की देखरेख में रहते हैं ।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ